Posts

Showing posts from February, 2017

वायुयान (Aircraft)

Image
ऐसा यान जो हवा में उड़ सकता है। एक बोईंग 787 ड्रीमलाइनर विमान हवा में उड़ान भरता हुआ वायुयान ऐसे यान को कहते है जो धरती के वातावरण या किसी अन्य वातावरण में उड सकता है। किन्तु राकेट, वायुयान नहीं है क्योंकि उडने के लिये इसके चारो तरफ हवा का होना आवश्यक नहीं है। इतिहास

दहेज प्रथा

दहेज प्रथादहेज का अर्थ है जो सम्पत्ति, विवाह के समय वधू के परिवार की तरफ़ से वर को दी जाती है। दहेज को उर्दू में जहेज़ कहते हैं। यूरोप, भारत, अफ्रीका और दुनिया के अन्य भागों में दहेज प्रथा का लंबा इतिहास है। भारत में इसे दहेज, हुँडा या वर-दक्षिणा के नाम से भी जाना जाता है तथा वधू के परिवार द्वारा नक़द या वस्तुओं के रूप में यह वर के परिवार को वधू के साथ दिया जाता है। आज के आधुनिक समय में भी दहेज़ प्रथा नाम की बुराई हर जगह फैली हुई हँ। पिछड़े भारतीय समाज में दहेज़ प्रथा अभी भी विकराल रूप में है।☆दहेज हत्याएँ☆ देश में औसतन हर एक घंटे में एक महिला दहेज संबंधी कारणों से मौत का शिकार होती है और वर्ष 2007 से 2011 के बीच इस प्रकार के मामलों में काफी वृद्धि देखी गई है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं कि विभिन्न राज्यों से वर्ष 2012 में दहेज हत्या के 8,233 मामले सामने आए। आंकड़ों का औसत बताता है कि प्रत्येक घंटे में एक महिला दहेज की बलि चढ़ रही है। दहेज के विरुद्ध कानूनदहेज निषेध अधिनियम, 1961 के अनुसार दहेज लेने, देने या इसके लेन-देन में सहयोग करने पर 5 वर्ष की कैद और 15,000…

गुरु

मैने एक बार अपने गुरु जी से पूछा कि गुरु का सही अर्थ क्या है। उन्होंने एक सेब मेरे हाथ में देकर मुझसे पूछा इसमें कितने बीज हैं बता सकते हो? सेब काटकर मैंने गिनकर कहा तीन बीज हैं। उन्होंने एक बीज अपने हाथ में लिया और फिर पूछा, इस बीज में कितने सेब हैं यह भी सोचकर बताओ? मैं सोचने लगा एक बीज से एक पेड़, एक पेड़ से अनेक सेब, अनेक सेबों में फिर तीन-तीन बीज हर बीज से फिर एक एक पेड़ और यह अनवरत क्रम। वो मुस्कुराते हुए बोले, बस इसी तरह परमात्मा की कृपा हमें प्राप्त होती रहती है।हमें उसकी भक्ति का एक बीज अपने मन में लगा लेने की ज़रूरत है।  गुरु एक तेज है, जिनके आते ही, सारे संशय के अंधकार खत्म हो जाते हैं। गुरु वो मृदंग है, जिसके बजते ही अनाहद नाद सुनने शुरू हो जाते है। गुरु वो ज्ञान है, जिसके मिलते ही पांचों शरीर एक हो जाते हैं। गुरु वो दीक्षा है, जो सही मायने में मिलती है तो भवसागर पार हो जाते है। गुरु वो नदी है, जो निरंतर हमारे प्राण से बहती है। गुरु वो सत चित आनंद है, जो हमें हमारी पहचान देता है। गुरु वो बांसुरी है, जिसके बजते ही अंग-अंग थिरकने लगता है। गुरु वो अमृत है, जिसे पीकर कोई कभी …